Sāhityālocana ke siddhānta

Sprednja platnica
Lakshmīnārāyaṇa Agravāla, 1949 - 302 strani
0 Recenzije
Mnenja niso preverjena, vendar Google preveri in odstrani lažno vsebino, ko jo prepozna.

Iz vsebine knjige

Mnenja - Napišite recenzijo

Na običajnih mestih nismo našli nobenih recenzij.

Vsebina

Del 1
1
Del 2
30
Del 3
105

11 preostalih delov ni prikazanih

Pogosti izrazi in povedi

अतः अथवा अधिक अनुभव अनेक अपनी अपने अभिव्यक्ति आज आदि इन इस प्रकार इसमें इसी उनकी उनके उपन्यास उपन्यासों उस उसका उसकी उसके उसमें उसे एक एवं ऐसे ओर कर करता है करते हैं करना करने कला कला का कलाकार कवि कविता कहानी का कारण काव्य किया है किसी की रचना कुछ के लिए के साथ केवल को कोई क्या गया है चरित्र चाहिए चित्रण जब जाता है जाती जाय जिस जीवन की जो ढंग तक तथा तब तो था दिया दो द्वारा नहीं है नाटक ने पं० पर परन्तु पाठक पात्र पात्रों प्रकृति प्रभाव प्रयोग प्रेम भाव भावना भी मानव में भी यदि यह या रहा रूप में लेखक वर्णन वह वास्तव में विचार विषय वे श्री सकता सकते सत्य समय समाज सम्बन्ध साहित्य में सुन्दर सृष्टि से सौन्दर्य स्थान स्पष्ट हम हमारे हमें हिन्दी हिन्दी में ही हुआ हृदय है और है कि हैं हो होता है होती

Bibliografski podatki